शक्ल दे सोहने Shakal De Sohne Lyrics in Hindi – Afsana Khan, Khuda Baksh

0
44

शक्ल दे सोहने Shakal De Sohne Hindi Lyrics – Afsana Khan, Khuda Baksh

कोई ना कोई इक ख़ास हुंदा आए
जिस उत्ते विश्वास हुंदा आए
कोई ना कोई इक ख़ास हुंदा आए
जिस उत्ते विश्वास हुंदा आए
एह फूल मोहब्बत दा
वे हरदे वहदे नही खिलडा

शकल दे सोहने मिल जांदे
सोहना दिल दा नही मिल्दा
शकल दे सोहने मिल जांदे
सोहना दिल दा नही मिल्दा

जो पहली तकनी अंखँ राही
दिल विच बस जांदे
रूह दा हानि बनके
इक दिन पीछे हॅट जांदे

इश्क़ दी करके जड़ों तौहीन
तोड़�दा अपना कोई यक़ीन
निकालडी पैरन तल्लो ज़मीन

मौका मिल्दे ही फ़ायदा
हर चक्क जानदा दिल दा

शकल दे सोहने मिल जांदे
सोहना दिल दा नही मिल्दा
शकल दे सोहने मिल जांदे
सोहना दिल दा नही मिल्दा

ख़तरनाक ने पाले पंछी
इश्क़ उदारियाँ दे
हंजू अक्सर हिस्से औंदे
वफ़ादरियाँ दे

मोहब्बत नू मेरा पैगाम
तेरे लगडे अज्ज कल दाम
बब्बू जड़ों हुंदा प्यार नीलाम

गोदियने दिल नू घाम दा खंजर
जानदा आए च्चील्डा

शकल दे सोहने मिल जांदे
सोहना दिल दा नही मिल्दा
शकल दे सोहने मिल जांदे
सोहना दिल दा नही मिल्दा

आशिक़ी गल्लां कर्दे तारे
तोड़ लेओुन दियाँ हाए
अलहदा हो जज़्बाती हड्डा
टप्प दियाँ चौं दियाँ

हुंदा जिन्ना उत्ते मान
क़ातल कर दिंदे अरमान
जेओंदी हो जाइए बेजान
अंखँ मुहरो घाम दा साया
पॅसे नही हिल्डा

शकल दे सोहने मिल जांदे
सोहना दिल दा नही मिल्दा
शकल दे सोहने मिल जांदे
सोहना दिल दा नही मिल्दा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here